बिलासपुर में सभी शिक्षक संघों ने बनाया ज्वाइंट फ्रंट

बिलासपुर में सभी शिक्षक संघों ने बनाया ज्वाइंट फ्रंट विधायकों राजेंद्र गर्ग व सुभाष ठाकुर के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा 5 सूत्रीय मांगपत्र,सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के अनुरूप 1997 से वरिष्ठता सूची तैयार कर विभिन्न पदों पर मांगी पदोन्नति
बिलासपुर ज़िला के सभी शिक्षक संघों ने एकजुट होकर घुमारवीं विधानसभा के विधायक राजेन्द्र गर्ग व सदर बिलासपर के विधायक सुभाष ठाकुर के माध्यम से मुख्यमंत्री को एक ज्ञापन भेजा है। जिला बिलासपुर के सभी शिक्षक संघों ने एक बैनर तले एकत्रित होकर एक ज्वाइंट शिक्षक फ्रंट बिलासपुर इकाई का गठन किया है। इसमें हिमाचल प्रदेश स्कूल प्राध्यापक संघ बिलासपुर,हिमाचल प्रवक्ता पदोन्नत संघ,हिमाचल प्रदेश विज्ञान शिक्षक संघ,प्रशिक्षित कला स्नातक संघ,हिमाचल प्रदेश स्नातकोत्तर संघ शामिल हैं। इस ज्वाइंट फ्रंट ने पांच सूत्रीय मांग पत्र तैयार किया।इसमें प्रमुख मुद्दा पूर्व सैनिकों की वरिष्ठता 1997 से पुनर्निर्धारित करना रहा । माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के अादेशानुसार ये 1997 से पुनर्निधारित होनी चाहिए थी मगर हिमाचल सरकार सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के दो साल बीत जाने पर भी इसे लागू नहीं कर रही है। ज्वाइंट फ्रंट के प्रतिनिधि मंडल ने बताया कि आखिरकार 20 साल की लंबी लड़ाई लड़ने के बाद भी शिक्षकों को कुछ भी हासिल नहीं हुआ। दूसरी मांग में सरकार द्वारा राष्ट्र निर्माता शिक्षकों की वार्षिक वेतन वृद्धि को रोकने के बारे में विरोध किया गया तथा इस तरह के विभाग के आदेशों को तुरंत वापिस लेने के लिए मांग उठाई गई। संघ के नेताओं ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार 5 सितंबर “शिक्षक दिवस” पर कोई लाभ देने की बजाए उनकी इंक्रीमेंट रोकने का तोहफ़ा देकर अपमानित कर रही है। प्रदेश के इतिहास में पहली बार ऐसा हो रहा है कि कम परिणाम की वज़ह से शिक्षकों का मनोबल गिराया जा रहा है। फ्रंट के पदाधिकारियों ने दो टूक शब्दों में सरकार को चेताया कि परीक्षा परिणाम के लिए सिर्फ़ शिक्षक ही जिम्मेवार नहीं बल्कि विभाग की ढुलमुल नीतियां भी उत्तरदायी हैं। तीसरी मांग के रूप में ज्वाइंट फ्रंट ने प्रोमोशन लिस्ट जेबीटी से टीजीटी,टीजीटी से पीजीटी,पीजीटी/प्रवक्ता से प्रधानाचार्य,प्रधानाचार्य से उप शिक्षा निदेशक जल्दी से जल्दी निकालने की वकालत की । चौथी मांग के रूप में स्कूल प्रबंधन समिति के माध्यम से शिक्षकों की भर्तियां करने की अधिसूचना को इन पदाधिकारियों ने शिक्षित बेरोजगारों,शिक्षकों व विद्यार्थियों के साथ छलावा करार देते हुए इन्हें तुरंत रोकने की सलाह दी। सरकार ने चुनाव से पहले सभी कर्मचारियों को पुराने एसीपी स्कीम 4-9-14 को लागू करने का वादा किया था उसको भी शिक्षक नेताओं ने ज्वाइंट फ्रंट के बैनर तले याद दिलवाया।शिक्षक फेडरेशन ने 4-9-14 की 2012 की मूल अधिसूचना लागू करने की मांग भी रखी । चिरकाल से लम्बित मांगों पर सरकार और शिक्षा विभाग के आलाधिकारियों की चुप्पी को ज्वाइंट फ्रंट के अधिकारियों ने आड़े हाथों लेते हुए सरकार व विभाग से अनुरोध किया है कि जल्दी से जल्दी इन मांगों को पूरा करने के लिये उचित व ठोस कदम उठाये जायें । इस ज्वाइंट फ्रंट के बैनर तले विभिन्न शिक्षक संगठनों के पदाधिकारी माजूद रहे । प्रवक्ता संघ बिलासपुर इकाई के प्रधान नरेश ठाकुर,वरिष्ठ उप प्रधान भूपेंद्र ठाकुर,महासचिव जगदीश कौंडल,सुरजीत ठाकुर,बलदेव शर्मा ,हेम राज ,देश राज,अब्दुल रशीद, सुशील चंदेल, डॉ० रमेश जसवाल के साथ ही पदोन्नत प्रवक्ता संघ के प्रधान संजीव शर्मा,महासचिव प्रवीण चंदेल, विज्ञान शिक्षक संघ के राज्य महासचिव अमृत महाजन,प्रशिक्षित कला स्नातक संघ के महासचिव भूपेंद्र,स्नातकोत्तर संघ के जिला प्रधान बालम कुमार,विज्ञान शिक्षक संघ बिलासपुर के प्रधान राजेन्द्र वर्मा,महासचिव अविनाश, सुरेश शर्मा,यशपाल,चमनपुरी अब्बदुल,हेमराज,देशराज के साथ 50 के लगभग शिक्षक नेताओं ने यह ज्ञापन जिला उपायुक्त विवेक भाटिया को भी सौंपा।दोनों विधायकों ने अश्वासन दिया कि ज्ञापन को मुख्यमंत्री को पहुंचाया जाएगा और विधयाक दल की बैठक में इन मुद्दों पर चर्चा कर शिक्षकों की चिरलंबित मांगों को पूरा किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *