सीधी भर्ती से स्कूलों में 25 प्रतिशत पदों को भरने का विरोध

सीधी भर्ती से स्कूलों में 25 प्रतिशत पदों को भरने का विरोध

हिमाचल प्रदेश स्कूल प्राध्यापक संघ के राज्य प्रधान केसर ठाकुर,प्रदेश कार्यकारी प्रधान राममकृष्ण मार्कण्डेय ,संघ के महासचिव संजीव ठाकुर ,संघ  के वरिष्ठ सदस्य नरोत्तम ठाकुर ,विजय शर्मा, सतीश शर्मा,पंकज शर्मा,कमल शर्मा,रणबीर ठाकुर ,संघ सभी ज़िला प्रधानों,सदस्यों और पदाधिकारियों ने प्रेस के नाम जारी एक वक्तव्य में प्रदेश सरकार,शिक्षा मंत्री, शिक्षा सचिव,शिक्षा निदेशक से आग्रह किया है कि राज्य के स्कूलों में सीधी भर्ती से प्रधानाचार्यों के पदों को न भरा जाए। यह वक्तव्य ऐसे समय संघ के पदाधिकारियों ने दिया है जब शिक्षा निदेशक ने सीधी भर्ती से स्कूलों में 25 प्रतिशत पदों को भरने की तैयारी करने की बात कही है। स्कूल प्राध्यापकों का मानना है कि शिक्षा विभाग ने इससे पहले भी मुख्याध्यापकों की सीधी भर्ती करके शिक्षकों के मनोबल को तोड़ने का प्रयास किया था। गौरतलब है कि जब स्कूल प्राध्यापकों से प्रधानाचार्य के पद पर पदोन्नति के लिए विभागीय परीक्षा की अनिवार्यता पहले से ही लागू है तो फिर सीधी भर्ती का कोई औचित्य नहीं। स्कूल प्राध्यापक गत 23 वर्षों से पदोन्नति की राह देख रहे हैं जाहिर है ऐसी भर्ती से सबका मनोबल गिरेगा। सीधी भर्ती अगर कमीशन से होती है तो इससे दूसरे राज्यों के शिक्षक व प्राइवेट स्कूलों के शिक्षक भी प्रधानाचार्य बनने के लिए आवेदन करेंगे और इस से हिमाचल के प्रवक्ताओं को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा।प्रवक्ताओं के किसी मामले में कोई भी फैसला लेने से पहले सरकार को स्कूल प्रवक्ता संघ के विश्वास में लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.