पूर्व सैनिकों के वरिष्ठता रद्द करने के सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को लागू करे सरकार

स्कूल प्रवक्ता संघ ने उठाया मामला
हिमाचल स्कूल प्रवक्ता संघ ने पूर्व सैनिकों के वरिष्ठता को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा रद्द किये जाने के निर्णय को लागू करने की सरकार से माँग की है ।आज जारी एक प्रेस ब्यान में संघ के राज्य प्रधान केसर ठाकुर वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ प्रदीप शर्मा , महासचिव संजीव ठाकुर, वित्त सचिव धीरज व्यास, प्रेस सचिव प्रेम शर्मा संगठन सचिव राजेश सैनी, चेयरमैन विनोद बन्याल, ऊना जिला प्रधान संजीव पराशर, हमीरपुर के जिला प्रधान तेज सिंह,जिला बिलासपुर के प्रधान नरेश ठाकुर मंडी के जिला रंगीला ठाकुर जिला शिमला के प्रधान लोकेंद्र नेगी जिला कांगड़ा के प्रधान राकेश भड़वाल चम्बा के प्रधान दीप सिंह , सिरमौर के प्रधानं सुरेंद्र पुंडीर कुल्लू के प्रधान राज पाल सोलन के के प्रधान चंद्र देव आदि ने
ने पूर्व सैनिकों को प्रधानाचार्य सूची में शामिल न करने को पुर जोर माँग की है। संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि पूर्व सैनिको को लाभ प्रदान करना सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का उलंघन है ।सर्वोच्च न्यायालय ने आर .के .बरवाल बनाम राज्य सरकार सिविल अपील न . 011060/17 में स्पष्ट किया हे कि नियम 1972 की धारा 5(a) के तहत केवल वो पूर्व सैनिक ही वरिष्ठता तथा वितीय लाभ के हकदार हे जिनकी सैना में न्युक्तीया आपातकाल के दौरान की गई थी
समान्य समय में जो सैनिक भर्ती हुये हे उन्हें ये लाभ प्राप्त नहीं होंगे इसे अवैध माना गया है। प्रवक्ता संघ सरकार से माँग करता हे की सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को लागू किया जाये !
संघ के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से
आग्रह किया कि शिक्षा विभाग में लगे पूर्व सैनिकों को लाभ देने से उन्हें कोई आपत्ति नहीं है परंतु सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के हिसाब से ही उन्हें लाभ दिया जाए !उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने पहले ही उन्हें वरिष्ठता सूची से बाहर किया है हिमाचल प्रदेश स्कूल प्रवक्ता संघ ने सरकार से प्रिंसिपल प्रमोशन लिस्ट शीघ्र निकालने की गुहार भी लगाई है ! प्रवक्ता संघ के प्रदेश अध्यक्ष केसर सिंह ठाकुर और पदाधिकारियो ने पिछले लगभग 2 वर्षों से प्रधानाचार्य की प्रमोशन लिस्ट ना निकलने पर खेद प्रकट किया है।
संघ ने अध्यक्ष केसर सिंह ठाकुर ने बताया कि इस समय हिमाचल प्रदेश के वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं में लगभग 500 के अधिक प्रिंसिपल के पद खाली चल रहे है। अंतिम बार प्रिंसिपल की प्रमोशन लिस्ट 14 नवंबर 2018 को निकाली गई थी उसके बाद किसी ना किसी कारण से यह प्रमोशन लिस्ट निकाली ना जा सकी।
कई प्राध्यापक प्रमोशन के बिना रिटायर होने से एक तरफ उच्च पद से वंचित रहते हैं तो दूसरे आर्थिक तौर पर भी बड़ी हानि उठानी पड़ती है। संघ ने प्रधानाचार्य पदोंउन्नती सूची शीघ्र जारी करने को कहा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *